Bounty Naxalites Killed : Big news...! Naxalite with bounty of 14 lakhs killed... was expert in making IED bombs... 8 big cases registeredFile photo
Spread the love

भोपाल, 09 जुलाई। Bounty Naxalites Killed : मध्य प्रदेश के बालाघाट जिले में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में 14 लाख रुपये का इनामी नक्सली मारा गया। जंगल से ग्रुप बनाकर किराने का सामान खरीदने निकले कुछ नक्सली फायरिंग करते हुए भागने में कामयाब रहे। फिलहाल गोलीबारी में घायल हुए अन्य लोगों की  तलाश की जा रही है।  

MP में नक्सल विरोधी अभियान के एडीजी जयदीप प्रसाद ने बताया कि यह मुठभेड़ बालाघाट के हट्टा थाना के कठियाटोला वन इलाके में हुई। दरअसल, राज्य पुलिस की हॉक फोर्स को सूचना मिली थी कि कुछ नक्सली किराने का सामान लेने कठियाटोला गांव पहुंचे हैं।

किराने का सामान खरीदने निकले थे

पुलिस अधिकारी ने बताया कि तलाशी अभियान के दौरान हॉक फोर्स ने जंगल में 10-12 नक्सलियों के एक समूह को पूछताछ के लिए बुलाया, लेकिन उन्होंने गोलीबारी शुरू कर दी। जब पुलिस ने जवाबी कार्रवाई में गोलीबारी शुरू की तो घने जंगल और पहाड़ियों में छिपे नक्सली मौके से भाग निकले। डीजी ने बताया कि बाद में पुलिस ने सोहन उर्फ ​​उकास उर्फ ​​आयुतु का शव बरामद किया है। गोलीबारी में घायल हुए अन्य लोगों की तलाश की जा रही है।

नक्सली सुकमा जिले का निवासी

पुलिस अधिकारी के मुताबिक, पड़ोसी छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले का निवासी आयतू आईईडी बम बनाने में माहिर था और मध्य प्रदेश में उसके नाम आठ मामले दर्ज थे। उन्होंने बताया कि मृतक नक्सली मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में सक्रिय था और उस पर 14 लाख रुपये का इनाम था। पुलिस ने मृतक के पास से 315 बोर की राइफल और एक वायरलेस सेट बरामद किया है।

बता दें कि पिछले पांच सालों में मध्य प्रदेश में कम से कम 19 नक्सलियों को मार गिराया गया है, जिन पर तीनों राज्यों में कुल 3.14 करोड़ रुपये का इनाम था।

बड़ी कामयाबी है यह

मुठभेड़ के बाद बालाघाट एसपी (Bounty Naxalites killed) ने उकास उर्फ सोहन के मारे जाने की पुष्टि की है। साथ ही नक्सल ऑपरेशन के खिलाफ यह बड़ी कामयाबी है। बीते कुछ सालों की बात करें तो बालाघाट में जवानों ने कई बड़े नक्सलियों को मार गिराया है। बालाघाट में नक्सली नेता संगठन के विस्तार के लिए कैंप करते हैं। इस दौरान वह जंगलों में डेरा डालते हैं या फिर जंगल से सटे गांवों में शरण लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *