DC Universe: What did director Angel Manuel Soto say about 'Blue Beetle'? Watch the trailer...DC Universe
Spread the love

मुंबई, 12 अगस्त। DC Universe : वार्नर ब्रदर्स पिक्चर्स की नई फीचर फिल्म “ब्लू बीटल”, पहली बार डीसी सुपर हीरो को बड़े पर्दे पर प्रदर्शित करने के लिए तैयार है। भारत में 18 अगस्त को अंग्रेजी, हिंदी, तमिल और तेलुगु में रिलीज होने वाली यह फिल्म, एंजेल मैनुएल सोटो द्वारा निर्देशित की गई है, जिसमें Hollywood movie एक्टर शोलो मैरिड्यूना, जैमे रेयेस सुपरहीरो के रूप में मुख्य भूमिका निभाते नजर आएंगे।

हाल ही में कॉलेज ग्रेजुएट हुआ जैमे रेयेस, अपने भविष्य से जुड़ी बहुत सी आकांक्षाओं के साथ घर लौटता है, लेकिन उसे पता चलता है कि अब वह घर वैसा नहीं है, जैसा वह छोड़ कर गया था। वहीं जब वह दुनिया में खुद के होने के उद्देश्य की तलाश के लिए निकलता है, तो भाग्य उसके साथ एक ऐसा खेल खेलता है कि जैमे अप्रत्याशित रूप से खुद को एलियन बायोटेक्नोलॉजी के एक प्राचीन अवशेष: स्कारब के कब्जे में पाता है।

हालांकि स्कारब जब अचानक, जैमे को अपने सिम्बिओटिक होस्ट या मानव शरीर के रूप में चुनता है, तो उसे असाधारण और बेशकीमती शक्तियों से लैस कवच का एक अद्भुत सूट मिलता है, जिससे वह हमेशा के लिए अपना भाग्य बदलने में सक्षम हो जाता है क्योंकि सूट के साथ ही वह अब Hollywood movie सुपर हीरो ब्लू बीटल में तब्दील हो चुका है।

शोलो के कैरेक्टर जेमी और स्कारब के बीच के रिश्ते के बारे में बात करते हुए, सोटो कहते हैं, “जैमे और स्कारब के बीच का रिश्ता दिलचस्प है क्योंकि यह जरूरी नहीं कि वह उसकी अंतरात्मा की आवाज हो, लेकिन वह इसे अपने दिमाग में सुन सकता है। वह यह बातचीत कर सकता है कि, यदि आप उसे थर्ड पार्टी के रूप में देखते हैं, तो ऐसा लगता है कि जैमे हवा से बात कर रहा है…लेकिन वास्तव में वह अपने दिमाग में चल रही आवाज़ के साथ बातचीत कर रहा होता है जो स्कारब है।

और, स्कारब का सबसे पहला मिशन मारना, मारना, और मारना है, लेकिन जैमे उस तरह का बच्चा नहीं है। इसलिए जब भी स्कारब इस तरह का कुछ करना चाहता है, तब जैमे की प्रतिक्रिया और उसकी नेकदिली, स्कारब के मिशन में रोड़ा बनती है, और उनकी बातचीत के बीच मजाक पैदा करती है जो कभी-कभी तो मज़ेदार होती है, लेकिन जागरूकता के साथ समझ भी बढ़ाती है।

क्योंकि, जैसे-जैसे कहानी आगे बढ़ती है और जैमे के जीवन में कुछ घटनाएँ होती रहती हैं, स्कारब भी जैमे से सीखता है और स्कारब अधिक से अधिक दयालु होने लगता है, और आखिरकार अंत में वह जैमे के लिए उसकी अंदरूनी चेतना की आवाज बन जाता है, जिस तरह से इसकी शुरुआत हुई थी, ठीक उसके उलट, जहां जैमे, स्कारब के लिए एक आवाज बना हुआ था।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *